आपके लिए पेश है निरक्षरता एक अभिशाप पर निबंध हिंदी में (niraksharta ek abhishap nibandh hindi) इस निबंध में निरक्षरता की समस्या के बारे में काफी सारी बाते लिखी गई है।

niraksharta ek abhishap nibandh hindi

आप निरक्षरता एक अभिशाप निबंध PDF (illiteracy essay in hindi with PDF) फाइल डाउनलोड भी कर सकते है बिना इंटरनेट के पढ़ने के लिए।


निरक्षरता एक अभिशाप निबंध हिंदी

प्रस्तावना : निरक्षरता-जिसका शाब्दिक अर्थ है अक्षरों तक का ज्ञान न होना। जो व्यक्ति अक्षरों को न तो पहचान सकता है और न ही पढ़ सकता है, वह "निरक्षर" कहलाता है। निरक्षर व्यक्ति संसार में प्रत्येक ज्ञान से अनभिज्ञ रहता है। निरक्षर होना वास्तव में सबसे बड़ा अभिशाप है।

निरक्षरता-एक अभिशाप : आज के प्रगतिशील युग में भी यदि कोई व्यक्ति पढ़-लिख नहीं सकता, तो निःसन्देह वह सबसे बड़ा अभागा है। भारतवर्ष के विषय में एक सत्य यह भी है कि यहाँ शिक्षितों तथा अशिक्षितों दोनों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। आज यदि हमारे देश में पढ़े-लिखे युवा नए-नए आविष्कार कर रहे हैं वही दूसरी ओर अशिक्षितों की भी कमी नहीं है। यह जानते हुए भी कि अशिक्षा कितना बड़ा अभिशाप है, वे लोग पढ़ने की कोशिश भी नहीं करते हैं।

निरक्षरता के दुष्परिणाम : निरक्षर व्यक्ति का सम्पूर्ण जीवन कष्टों से भरा होता है। वह न तो. अपने किसी प्रियजन को पत्र लिख सकता है और न ही किसी का पत्र पढ़ सकता है। वह किसी दस्तावेज पर हस्ताक्षर तक नहीं कर सकता इसीलिए लोग उसको "अंगूठा टेक" कहते हैं। निरक्षर व्यक्ति किसी से अपने दिल की बात भी नहीं कह सकता क्योंकि उसे किसी भी विषय पर ठीक से बोलना नहीं आता। शिक्षा से ही तो व्यक्ति में आत्मविश्वास आता है। निरक्षर व्यक्ति का कोई भी सम्मान नहीं करता।

निरक्षरता दूर करने के उपाय : इस दिशा में अनेक कदम उठाए जा सकते हैं। आजकल सरकार की ओर से साक्षरता अभियान भी चलाए जा रहे हैं। महानगरों, नगरों, कस्बो तथा गाँवों में शिक्षित लोग अशिक्षितों को पढ़ा रहे हैं। इसके लिए सर्व शिक्षा शिविर भी लगाए जा रहे हैं। प्रायः निरक्षर लोग मेहनत-मजदूरी करने वाले होते हैं, इसलिए उनके पास सुबह-शाम का समय ही होता है, जिसमें वे पढ़ाई कर सकते हैं। घरेलू स्त्रियों के लिए दोपहर के खाली समय में पढ़ने-लिखने की मुफ्त व्यवस्था की जाती है। इसके अतिरिक्त निरक्षर लोगों को शिक्षा-सामग्री भी निशुल्क दी जाती है। इन सब सुविधाओं से लाभ उठाकर हम निरक्षरता रूपी अभिशाप से मुक्ति पा सकते हैं।

निष्कर्ष : आज का युग कम्प्यूटर, बड़ी-बड़ी मशीनों, इंटरनेट आदि का युग है। ऐसे विकासशील समय में निरक्षर होना देश के नाम पर तथा स्वयं के नाम पर भी कलंक है। हम भारतवासियों का यह परम कर्तव्य है कि हम स्वयं साक्षर होकर दूसरों को भी साक्षर करें और सर्व शिक्षा अभियान का हिस्सा बने।


निरक्षरता एक अभिशाप निबंध हिंदी PDF

निरक्षरता एक अभिशाप निबंध PDF (illiteracy essay in hindi pdf) को अपने फ़ोन में डाउनलोड करने के लिए निचे दिए लिंक पर क्लिक करे।

Click Here To Download

Read

प्रदुषण की समस्या पर निबंध हिंदी

दहेज प्रथा पर निबंध हिंदी

बेरोजगारी पर निबंध हिंदी

अकाल एक भीषण समस्या निबंध हिंदी

जनसंख्या वृद्धि की समस्या पर निबंध

करत-करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान निबंध

Post a Comment

Previous Post Next Post